• Mobile Menu
HOME BUY COURSES
LOG IN SIGN UP

Sign-Up IcanDon't Have an Account?


SIGN UP

 

Login Icon

Have an Account?


LOG IN
 

or
By clicking on Register, you are agreeing to our Terms & Conditions.
 
 
 

or
 
 




एंथ्रोपोसीन युग

Wed 29 May, 2019

एंथ्रोपोसीन कार्यकारी समूह (Anthropocene Working Group- AWG) के 90% से अधिक लगभग 34-सदस्यीय पैनल ने वर्तमान भौगोलिक युग का नामकरण ‘एंथ्रोपोसीन युग’ करने के पक्ष में मतदान किया है। इस पैनल ने वर्ष 2021 तक भूगर्भिक घटनाओं का अध्ययन करने वाले ‘इंटरनेशनल कमीशन ऑन स्ट्रेटीग्राफी’ (International Commission on Stratigraphy) के समक्ष नए युग के प्रारंभ के संदर्भ में एक औपचारिक प्रस्ताव प्रस्तुत करने की योजना बनाई है।यदि यह प्रस्ताव स्वीकार कर  लिया जाता है तो 11,700 वर्ष  पहले प्रांरम्भ हुए होलोसीन युग (Holocene Epoch) के अंत का निर्धारण हो जाएगा ।

पृष्ठभूमि

  • एंथ्रोपोसीन कार्यकारी समूह (AWG) के अनुसार, मानवीय विकास के कारण  कृषि ,शहरीकरण, परिवहन एवं औद्योगिक गतिविधियों द्वारा उत्सर्जित कार्बन एवं अन्य हानिकारक तत्वों ने वातावरण  को गंभीर रूप से प्रभावित किया है जिसके फलस्वरूप ग्लोबल वार्मिंग, समुद्री जलस्तर में बढ़ोतरी , समुद्री अम्लीकरण जैसी घटनाएँ बढ़ रही हैं जो जैवमंडल के लिये हानिकारक है।
  • मानव द्वारा परमाणु बमों के  परीक्षण के परिणामस्वरुप वैश्विक स्तर पर कृत्रिम रेडियोधर्मी पदार्थ फ़ैल गए जो युग परिवर्तन के संकेत देते है।

एंथ्रोपोसीन

  • सर्वप्रथम एंथ्रोपोसीन (Anthropocene) शब्द का प्रयोग वर्ष 2000 में नोबेल पुरस्कार विजेता पॉल कर्टज़न एवं यूजीन स्ट्रोर्मेर ने किया था।
  • यह शब्द वर्तमान में चल रहे उस युग  को व्यक्त करता है जिसमें मानवीय गतिविधियों के कारण पृथ्वी पर गंभीर प्रभाव पड़े हैं।
  • महत्वपूर्ण भूगर्भीय परिवर्तन जो आमतौर पर हज़ारों वर्षों में घटित होते हैं वो पिछली आधी शताब्दी में घटित हुए हैं।

इंटरनेशनल यूनियन ऑफ़ जियोलॉजिकल साइंसेज़ (International Union of Geological Sciences)

  • वर्ष 1961 में स्थापित इंटरनेशनल यूनियन ऑफ जियोलॉजिकल साइंसेज (IUGS) एक अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन है जो अंतर्राष्ट्रीय सहयोग से भूविज्ञान के क्षेत्र में  शोध के लिए समर्पित है। यह इंटरनेशनल काउंसिल फॉर साइंस (ICSU) के वैज्ञानिक संघ का सदस्य भी है।
  • IUGS भू-वैज्ञानिक समस्याओं के अध्ययन को प्रोत्साहित करता है और यह पृथ्वी विज्ञान में अंतर्राष्ट्रीय एवं अंतःविषयक सहयोग की सुविधा प्रदान करता है।
  • 36 वीं अंतर्राष्ट्रीय भूवैज्ञानिक कांग्रेस (IGC) वर्ष 2020 में दिल्ली, भारत में आयोजित होने जा रही है।
  • वर्ष 2020 में, दिल्ली, भारत में 36वीं अंतर्राष्ट्रीय भू-वैज्ञानिक कांग्रेस आयोजित होने जा रही है।