• Mobile Menu
HOME BUY COURSES
LOG IN SIGN UP

Sign-Up IcanDon't Have an Account?


SIGN UP

 

Login Icon

Have an Account?


LOG IN
 

or
By clicking on Register, you are agreeing to our Terms & Conditions.
 
 
 

or
 
 




राष्‍ट्रीय दूरभाष-परामर्श केंद्र (CoNTeC)

Sun 29 Mar, 2020

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान(AIIMS) द्वारा कार्यान्वित ‘COVID-19 राष्‍ट्रीय दूरभाष-परामर्श केंद्र (कॉनटेक) (CoNTeC)’ का शुभारंभ किया। ‘कॉनटेक’ परियोजना  ‘कोविड-19 नेशनल टेलीकंसल्टेशन सेंटर’ का संक्षिप्ताक्षर है, जिसके माध्यम से विशेषज्ञ COVID-19 के संबंध में देश एवं विदेश से सूचना का आदान- प्रदान एवं बीमारियों के उपचार करेंगे।

पृष्ठभूमि

  • सरकार स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे की तैयारियों पर राज्यों के साथ काम कर रही है और हर राज्य में COVID-19 अस्पताल और ब्लॉक स्थापित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।
  • निजी चिकित्सा प्रतिष्ठानों और सशस्त्र बलों से भी संसाधन जुटाए जा रहे थे, रेलवे ने गैर-वातानुकूलित ट्रेन के डिब्बों को परिवर्तित करके कोरोनोवायरस रोगियों के इलाज के लिए एक आइसोलेशन वार्ड का प्रोटोटाइप तैयार किया है।

प्रमुख बिंदु

  • यह एक बहु-मॉडल दूरसंचार केन्द्र है जिसके माध्यम से देश के अलावा विश्व के किसी भी हिस्से से दोनों ओर से ऑडियो-वीडियो वार्तालाप के साथ-साथ लिखित संपर्क भी किया जा सकता है। संचार साधनों के रूप में, सरल मोबाइल टेलीफोन के साथ-साथ दोनों और से वीडियो वार्तालापों के लिए व्हाट्सएप, स्काइप और गूगल डुओ का उपयोग किया जाएगा।
  • ‘कॉनटेक’, लखनऊ के एसजीपीजीआई स्थित राष्ट्रीय संसाधन केंद्र के साथ एनएमसीएन के माध्यम से जुड़े 50 मेडिकल कॉलेजों के बीच वीडियो सम्मेलन (वीसी) का संचालन करने के लिए पूरी तरह से राष्ट्रीय मेडिकल कॉलेज नेटवर्क (एनएमसीएन) के साथ एकीकृत है।
  • ‘कॉनटेक’ से संपर्क करने के लिए कोविड-19 का उपचार करने वाले चिकित्सकों के द्वारा देश/दुनिया में कहीं से भी एकल मोबाइल नंबर (+91 9115444155) डायल किया जा सकता है जिसमें छह लाइनें हैं जिनका वर्तमान में एक साथ उपयोग किया जा सकता है।

टेलीमेडिसिन

  • टेली-मेडिसिन प्रणाली संचार व सूचना प्रौद्योगिकी, चिकित्सा विज्ञान, इंजीनियरिंग एवं आयुर्विज्ञान ऐसा  समन्वय है, जिसके अन्तर्गत विशेष रूप से तैयार किए गए हार्डवेयर और सॉफ्वेयर, रोगी तथा डॉक्टर को दोनों छोरों पर प्रदान किए जाते हैं।
  • इनके जरिए रोग निवारण के उपकरण, एक्स-रे, ईसीजी, जाँच रिपोर्ट आदि रोगी तक पहुँचाए जाते हैं इसके बाद डॉक्टर जाँच-पड़ताल के बाद रोगी से सीधे वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के द्वारा बातचीत करके रोग का निदान और उपचार करते हैं।