• Mobile Menu
HOME BUY COURSES
LOG IN SIGN UP

Sign-Up IcanDon't Have an Account?


SIGN UP

 

Login Icon

Have an Account?


LOG IN
 

or
By clicking on Register, you are agreeing to our Terms & Conditions.
 
 
 

or
 
 




MACS 4028

Sat 28 Mar, 2020

हाल ही में पुणे स्थित विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के अधीन स्वायत्त संस्थान अघारकर रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने उच्च प्रोटीन युक्त गेहूं की बायोफोर्टीफाइड किस्म MACS 4028 विकसित की है। इसे भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा नियंत्रित एवं भारतीय गेहूं और जौ अनुसंधान संस्‍थान, करनाल द्वारा संचालित अखिल भारतीय समन्वित गेहूं और जौ सुधार कार्यक्रम के अंतर्गत विकसित किया गया है।

पृष्ठभूमि

  • MACS 4028 को संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्‍ट्रीय बाल आपात कोष (यूनीसेफ) के लिए कृषि विज्ञान केन्‍द्र कार्यक्रम द्वारा भी स्‍थायी रूप से कुपोषण दूर करने के लिए शामिल किया गया है और यह "कुपोषण मुक्त भारत", राष्ट्रीय पोषण रणनीति की संकल्‍पना 2022 को बढ़ावा देने में सक्षम है।
  • MACS 4028 को फसल मानकों पर केन्‍द्रीय उप-समिति द्वारा अधिसूचित किया गया है, महाराष्ट्र और कर्नाटक को शामिल करते हुए समय पर बुवाई के लिए कृषि फसलों की किस्‍में जारी करने (सीवीआरसी), प्रायद्वीपीय क्षेत्र की बारिश की स्थिति के लिए अधिसूचना जारी की गई है।
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने भी वर्ष 2019 के दौरान बायोफोर्टीफाइड श्रेणी के तहत इस किस्म को टैग किया है।

प्रमुख बिंदु

  • MACS 4028 में लगभग 14.7% उच्च प्रोटीन, बेहतर पोषण गुणवत्ता के साथ जस्ता (जिंक) 40.3 पीपीएम, और क्रमशः 40.3 पीपीएम और 46.1 पीपीएम लौह सामग्री, पिसाई की अच्छी गुणवत्ता और पूरी स्वीकार्यता विद्दमान है।
  • MACS 4028 गेंहू की अर्ध-बौनी (सेमी ड्वार्फ) ऐसी किस्म है जिसकी परिपक्वता अवधि 102 दिन और प्रति हेक्टेयर 19.3 क्विंटल की उपज क्षमता है।
  • यह डंठल, पत्‍तों पर लगने वाली फंगस, पत्‍तों पर लगने वाले कीड़ों, जड़ों में लगने वाले कीड़ों और ब्राउन गेहूं के घुन की प्रतिरोधी है।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद

  • कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के तहत भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद एक स्वायत्तशासी संस्था है।
  • रॉयल कमीशन की कृषि पर रिपोर्ट के अनुसरण में सोसाइटी रजिस्ट्रीकरण अधिनियम, 1860 के तहत पंजीकृत और 16 जुलाई, 1929 को स्थापित इस सोसाइटी का पहले नाम इंपीरियल काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च था।
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का मुख्यालय नई दिल्ली स्थित है।